अंतराष्ट्रीय

तालिबान के नक्शे में आया पीओके

तालिबान के कश्मीर में पाकिस्तान के प्रयोजन आतंकवाद में शामिल होने के दावों के बाद तालिबान ने कश्मीर को इस्लामिक अमीरात का हिस्सा बताया दरअसल सोशल मीडिया पर एक में आप शेयर हो रहा है जिसमें अफगानिस्तान के संसद पाकिस्तान को इस्लामिक अमीरात के हिस्से में दिखाया जा रहा है नक्शे में पीओके को भी शामिल किया गया इस नक्शे को तालिबान और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान टीटीपी से जुड़े सोशल मीडिया अकाउंट शेयर कर रहे हैं अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद तालिबान ने कहा था कि वह अफगानिस्तान को इस्लामिक अमीरात बनाना चाहता है साल 2020 के दोहा समझौते पर तालिबान ने इस्लामिक अमीरात ऑफ अफगानिस्तान नाम से दस्तखत किए थे सोशल मीडिया पर नक्शे सर्कुलेट करके अफगानिस्तान ने यह साबित कर दिया कि वह इसी राह पर चल रहा है भारत के लिए खतरा इस्लामिक अमीरात और अफगानिस्तान के नाम से जाना जाने वाला नया अफगानिस्तान भारत के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है इस्लामिक स्टेट के आतंकवादी समूह जो अभी तक इराक और सीरिया में मौजूद थे वह तालिबान के जरिए भारत के बेहद करीब आ गए हैं और लश्कर जैसे आतंकवादी संगठन तालिबान ने कहा है कि उसे कश्मीर में मुसलमानों के अधिकार के लिए आवाज उठाने का पूरा अधिकार है उसने पूरे विश्व के मुसलमानों के मुद्दों को उठाने की बात कही है यही मंशा इस मैप में भी साफ दिख रही है ।

Annie Sharma

Writer, Social blogger, data analyst (worked under NGO related to niti aayog for 3years &self )

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button